आंदोलन पर आमादा केदारनाथ के पुजारी, कहा उत्तराखंड सरकार मंदिरों और चारधाम यात्रा पर करना चाहती है कब्ज़ा

केदारनाथ धाम मंदिर के सामने तीर्थ पुरोहितों ने धरना दे दिया है। संतो, महंतों और पुजारियों ने मौन प्रदर्शन शुरू कर दिया है। आप तस्वीरों में देख सकते हैं की तमाम पुरोहित कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए गोले में बैठकर धरना दे रहे हैं। ये तस्वीरें देखकर कोई भी चौक सकता है कि आखिर ऐसा क्या हुआ जो हिंदू धर्म में सबसे ऊंची मान्यता रखने वाले पुजारियों को सरकार के खिलाफ केदारनाथ मंदिर के सामने बैठकर आंदोलन करना पड़ रहा है।

असल में ये सभी पंडित बद्रीनाथ, केदारनाथ धाम सहित तमाम मंदिरों के लिए बने उत्तराखंड चार धाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को भंग करने की मांग कर रहे हैं। इसी मांग के तहत सरकार पर दबाव बनाने के लिए पुरोहितों ने केदारनाथ धाम के सामने धरना-प्रदर्शन करते हुए आंदोलन शुरू कर दिया है। पुरोहितों ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो वे आंदोलन तेज कर देंगे।

तमाम पुजारियों ने 15 जून को गंगोत्री मंदिर परिसर और शीतकालीन पूजा स्थल मुखवा में सांकेतिक उपवास के अलावा 21 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल का भी ऐलान किया है।

आपको बता दें कि तमाम तीर्थ पुरोहित चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड से नाराज चल रहे हैं। मई में देवस्थानम बोर्ड के सदस्यों ने पुरोहितों के गर्भ गृह में प्रवेश पर पाबंदी लगाई। ये विवाद इतना बढ़ा कि कुछ देर के लिए मंदिर बंद करना पड़ गया था।

पुरोहितों ने उत्तराखंड सरकार पर चार धाम यात्रा और मंदिरों पर कब्जा करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है। पुजारियों का कहना है कि देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड का गठन करने से पहले सरकार ने उन्हें विश्वास में नहीं लिया। सरकार ने बोर्ड को अत्याधिक अधिकार दे दिए हैं और पुजारियों का दखल सीमित कर दिया है।

One thought on “आंदोलन पर आमादा केदारनाथ के पुजारी, कहा उत्तराखंड सरकार मंदिरों और चारधाम यात्रा पर करना चाहती है कब्ज़ा

  1. सब मिले हुए हैं, नेता पंडे, सरकार। सब मिलकर भक्तों का काट रहे है बस, और कुछ नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *